#HindiPost Instagram Photos & Videos

HindiPost - 8.6k posts

Advertisements

Advertisements

    रंगमंच का हाल अब कुछ यूं है कि 
हर कोई अपने किरदार पर पर्दा डालकर कहता है कि ये सारे नाटक ही बेकार है,ये जो बेतहाशा भीड़ खड़ी है रंगमंच के आगे वो सब पागल है,कोई कुछ नहीं समझता..
लेकिन रंगमंच पर जब एक बार सारे किरदार प्रदर्शित हो जाते हैं,और पर्दा उठ जाने के बाद जब नाटक चलने लगता है तो कोई अपने किरदार को झुठला नहीं सकता क्युकी रंगमंच पर आने के पहले ही वो सारे किरदार गढ़ दिए गए होते हैं..
तो बेहतर यही है कि आपने जो किरदार चुना है उसको बेहद संजीदगी से निभाए,एक समय पर एक ही किरदार निभाए....!! #विशाल✍️
#rangmanch
#role 
#timechanges
#behavioranalysis
#peoples
#वक़्त_का_खेल
#hindipost 
#hindipoetry 
@hindinama 
@yqhindi

    रंगमंच का हाल अब कुछ यूं है कि
    हर कोई अपने किरदार पर पर्दा डालकर कहता है कि ये सारे नाटक ही बेकार है,ये जो बेतहाशा भीड़ खड़ी है रंगमंच के आगे वो सब पागल है,कोई कुछ नहीं समझता..
    लेकिन रंगमंच पर जब एक बार सारे किरदार प्रदर्शित हो जाते हैं,और पर्दा उठ जाने के बाद जब नाटक चलने लगता है तो कोई अपने किरदार को झुठला नहीं सकता क्युकी रंगमंच पर आने के पहले ही वो सारे किरदार गढ़ दिए गए होते हैं..
    तो बेहतर यही है कि आपने जो किरदार चुना है उसको बेहद संजीदगी से निभाए,एक समय पर एक ही किरदार निभाए....!! #व िशाल✍️
    #rangmanch
    #role
    #timechanges
    #behavioranalysis
    #peoples
    #वक ़्त_का_खेल
    #hindipost
    #hindipoetry
    @hindinama
    @yqhindi

    8 0 6 hours ago

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Top #HindiPost posts

Advertisements

    पहाड़ भी सोचते होंगे,
हमारे बारे में,
कि कौन बंजारे हैं ये,
चलते फिरते
वापस यहीं पहुंच जाते हैं,
इन्हीं खिड़कियों पर
फिर खड़े हो,
चाय संग बादलों को छटते हुए देखते हैं,
और हर बार
एक नया पहाड़ निकल कर आता है,
जैसे बाहरी आसमान के संग संग,
खुद के अंदर का भी साफ हो रहा हो

शायद यही जादू है,
इन जगहों का,
जो बार बार अपनी ओर बुलाती हैं,
जैसे हर बार
एक नई बात समझाना चाहती हों...

    पहाड़ भी सोचते होंगे,
    हमारे बारे में,
    कि कौन बंजारे हैं ये,
    चलते फिरते
    वापस यहीं पहुंच जाते हैं,
    इन्हीं खिड़कियों पर
    फिर खड़े हो,
    चाय संग बादलों को छटते हुए देखते हैं,
    और हर बार
    एक नया पहाड़ निकल कर आता है,
    जैसे बाहरी आसमान के संग संग,
    खुद के अंदर का भी साफ हो रहा हो

    शायद यही जादू है,
    इन जगहों का,
    जो बार बार अपनी ओर बुलाती हैं,
    जैसे हर बार
    एक नई बात समझाना चाहती हों...

    8,379 148 14 March, 2019

Advertisements

Advertisements